10/22/10

जाना था जापान पहुंच गए चीन



जाना था जापान पहुंच गए चीन वाह भई वाह... साला ये जहाज ना हुआ टेम्पो हो गया. अभी तक ये तो देखा और सुना था कि गलत ट्रेन में बैठ कर कोलकात्ता के बजाय मुंबई पहुंच गए. बनारस में था तो एक दोस्त लाला को लखनऊ के लिए वरुणा पकडऩी थी. लाला चार बजे उनीदा सा उठा. उसे किसी तरह रिक्शा करवाया और मैं सो गया. एक घंटे बाद दरवाजा खटका तो देखा लाला लुंगी लपेटे अटैची लिए खड़ा है. क्या बे लाला, ट्रेन छूट गई क्या? नहीं यार नीद मैं वरुणा के बजाय बक्सर वाली पैसेंजर में बैठ गया था. मुगलसराय से आ रहा हूं्. गलत बस भी लोग पकड़ लेते हैं और टेम्पो सवारियां तो रोज ही रूट को लेकर झिक झिक करती हैं. बस या रेल से आप रास्ते में उतर सकते हैं लेकिन हवाई लहाज से कैसे कूदेंगे. शुक्रवार को तो लखनऊ के अमौसी एअरपोर्ट पर गजबै हो गया. गो एअर के जहाज में पटना के बजाय दिल्ली के यात्रियों को बैठा दिया गया. जब पटना में लैडिंग हुई तो यात्री चकराए कि गुरू ये तो दिल्ली नहीं है. फिर शुरू हुआ हंगामा. सडक़ और रेल पर होते तो स्टेशन और कस्बा पहचान का हल्ला मचाते. अब हवा में कैसे पहचाने के ये पटना वाला रूट है या दिल्ली वाला. और अगर पता भी लग गया कि गलत बैठ गए हैं तो पायलट से भी नहीं कह सकते कि ..अबे उधर कहां ले जा रहा है. और जबरिया रास्ते में उतर भी तो नहीं सकते. धन्य है गो एअर और धन्य हैं यात्री.

19 comments:

  1. हा हा बहुते सुन्दर पोस्ट बा

    ReplyDelete
  2. गो देयर विदाउट फेयर

    ReplyDelete
  3. हा हा हा ...
    सचमुच ऐसा हुआ ...!!

    ReplyDelete
  4. ये तो मजेदार खबर है और वरुणा के साथ तो हमेसा ही ऐसा होता है लोगों की नीद चौपट कर देती है भईया इति सुबह का उसका टाइम ही क्यों रखा है अक्सर तो वो छुट ही जाती है लोगों से|

    ReplyDelete
  5. हा हा हा …………॥सही मे धन्य हैं।

    ReplyDelete
  6. ये तो मजेदार खबर है|

    ReplyDelete
  7. पहली बार ऐसा सुना है। मेरे देश मे कुछ भी असंभव नही। मेरा भारत महान।

    ReplyDelete
  8. मजेदार किस्सा।

    ReplyDelete
  9. हा,,,हा,,हा,,हा
    आप भी क्या-क्या मसाला ले आते हैं :)

    ReplyDelete
  10. हा हा हा कमाल की खबर है सर और अपने इंडिया में ही संभव है ..बताईये भला साला उतारा भी तो कहां पटना में ..हा हा हा लगता है पायलटवा का कुछ सामान गोल घर के छत पर छूट गया होगा ..न त पैगवा घोडा वाला ट्रिपल एक्स रम मार लिया होगा ...शुक्र है कि सीधा गांधी मैदान में नहीं लैंड कर गया

    ReplyDelete
  11. हा हा ... एक बार हमने भी कुछ ऐसा ही किया था....एअरपोर्ट पर पटना जाने वाली फ्लाईट के बस के बदले हैदराबाद वाली बस में चले गए थे .. टिकट चेकिंग के समय पता चला तो एअरपोर्ट के ट्रैक्टर पर बैठ के पटना वाली प्लेन के पास गए :D

    ReplyDelete
  12. भारत से हर जगह फैल रही है यह संवेदना।

    ReplyDelete
  13. बाद में पता चला कि पटना-दिल्ली फ्लाइट में सवारी काफी कम और लखनऊ-दिल्ली के प्लेन में जगह थी. सो पैसा बचाने के लिए तय किया गया कि लखनऊ वाले जहाज को पटना ले जाकर और सवारी बैठा ली जाए डग्गामार टेम्पो स्टाइल में.

    ReplyDelete
  14. इट हैपेन्स ओनली इन इंडिया !!!

    ReplyDelete
  15. अरे सवारी कम होगी दिल्ली की तो पटना ले लिया होगा :)

    ReplyDelete
  16. या फिर खलासी ने गलत रूट पकड़ा दिया होगा भांग खा के... 'जाओ बढ़ा के' .

    ReplyDelete
  17. हो सकता है किसी पावरफुल यात्री को अचानक पटना जाने का मन कर गया हो ।

    ReplyDelete
  18. Ek to ye GO AIR wale apko utne hi paise me Patna bhi ghuma rahe hain aur aap shikayat kar rahe hain.
    .....................
    khair ye to shukr hai upar wale ka ki Patna le gaye ......DUBAI, SHARJAH ya LAHORE nahi le gaye. ............ wo to dangerous hota.

    ReplyDelete
  19. उनका नाम और स्लोगन ही है, गो इंडिया गो. किधर कहाँ, ये सब सोचे बिना.

    ReplyDelete

My Blog List