7/15/09

ब्लैकबेरी



वो जमाने लद गए जब मोबाइल रखना प्रेस्टिजियस माना जाता था. हां, महंगे मोबाइल अब भी शान समझे जाते हैं जैसे ब्लैकबेरी. हमारा एक साथी रिपोर्टर अचानक कहीं से एक ब्लैकबेरी ले आया है. उसके हाथ में ब्लैकबेरी किसी ब्रेकिंग न्यूज से कम नहीं. ले आया इस लिए कि इस पर विवाद है कि ये फोन उसे कहां से मिला. आप कुछ और समझें इसके पहले बताता चलूं कि वह अल्लाह से डरने वाला एक मेहनतकश रिपोर्टर है. जहां ना पहुंचे रवि वहां पहुंचे कवि की स्टाइल में काम करता है. आइडियाज इतने इनोवेटिव कि बाकी रिपोर्टर दांतों तले उंगली दबा लें लेकिन कभी कभी इनोवेशन के चक्कर में सीनियर्स की डांट भी खा जाता है. फिलहाल उसके ब्लैकबेरी को लेकर जितने मुहं उतनी बातें. किसी ने कहा, अबे किसी ने गिफ्ट किया होगा, उस जैसा सूम और इतना महंगा मोबाइल. दूसरा बोला, महंगा मोबाइल लेने से चिरकुटई थोड़े ही कम हो जाएगी, अभी भी ब्लैकबेरी से मिसकॉल मारता है. तीसरा बोला, सेकेंडहैंड लिया होगा. चौथे ने ध्यान से उसेे उलटा पलटा, ये तो डुप्लीकेट है-चाइनीज. और बेचारा ब्लैकबेरी, अपनी किस्मत को कोस रहा है कि कहां फंस गया डाउन मार्केट लोगों के बीच. तीन दिनों में उसे इतने हाथों ने नचाया कि उसकी हालत वैसी हो गई जैसे रजिया फंस गई हो गुंडों में. कोई उसके फीचर्स परख रहा है कोई नेट सर्फिंग और एसएमएस भेजने के जुगाड़ देख रहा है. और रिपोर्टर साहब हैं कि कमर में ब्लैकबेरी रिवाल्वर की तरह खोंसे टेढ़े टेढ़े घूम रहे हैं. जेब में नही रखते. पूरी कोशिश है कि ये फोन ज्यादा से ज्यादा लोगों की नजरों में आए. किसी बड़े अधिकारी से मिलने जाता है तो बहाने से सेलफोन सामने टेबुल पर जरूर रख देता है. हद तो तब हो गई जब खादी आश्रम में 75 साल के वृद्ध भैया जी के सामने भी उसने तीन बार ब्लैकबेरी घुमाया. भैया जी को देख कर नहीं लग रहा था कि उन्होंने कभी साधारण मोबाइल भी प्रयोग किया होगा. रिपोर्टर साथियों में चर्चा है कि ब्लैकबेरी पाकर वो बौरा गया है. कॉल आती है तो हैलो भी स्टाइल से बोलता है. किसी ने बता दिया है कि इस फोन में आवाज छन छन कर आती है. सो बात करने वाले से पूछना नहीं भूलता कि बताओ मेरी आवाज कैसी आ रही है, बिल्कुल साफ छन कर आ रही है कि नहीं? दरअसल मैं ब्लैकबेरी से बात कर रहा हूं. आपके पास उसका फोन आए तो कुछ पूछने से पहले ही कह दीजिए कि यार तुम्हारी आवाज छन छन कर आ रही है. उसका नंबर है 09450874346.

14 comments:

  1. ये क्या लंठई? बेचारे का नम्बर सार्वजनिक कर उसको खाम्खाँ परेशानी में डाल दिए। बड़े डेंजर मनई हैं आप।

    ReplyDelete
  2. कहीं ये नम्बर आप का ही तो नहीं?

    ReplyDelete
  3. मैंने नंबर 09450874346 मिलाया तो

    लिखा आया है कि आप पहली बार

    किसी ब्‍लैकबेरी होल्‍डर का नंबर

    मिला रहे हैं, सावधान रहें

    आवाज छनने का विकल्‍प सक्रिय है

    ReplyDelete
  4. कंही यह आपबीती तो नहीं और अपना नंबर ही सभी को बाँट रहे हो ........हा हा हा
    खैर अपने बिलकुल सच्ची बात कही ऐसा कभी कभी नहीं अक्सर ही होता है ये तो ब्लेक बेरी था लोग तो रुमाल तक को नहीं छोड़ते नया रुमाल जब तक सभी को नहीं दिखा दें तब तक उसके पैसे वसूल ही नहीं होते

    ReplyDelete
  5. ब्लैकबेरी क्या है?

    ReplyDelete
  6. ये क्या..फोन नम्बर सार्वजनिक!१ बेचारा!!

    ReplyDelete
  7. अच्छा तरीक है अपना फोन नम्बर देने का बधाई

    ReplyDelete
  8. हाय, कभी दर्शन न हुये ब्लैकबैरी के।
    जितने भी बैरी थे देश के गोरे ही थे!

    ReplyDelete
  9. @Grijeshji, Nirbhayji, Nirmalaji: Jee nahin. ye mera number nahi hai. Apna no. to kisi bhi post ke sath de sakta hun. yet to blackBerry wale ka number hai. aur vo bechara nahin Gurughantaal hai.

    ReplyDelete
  10. बहुत ही बढि़या ।

    ReplyDelete
  11. अजित जी आपने गाना सुना हेागा...मेरी बेरी के बेर मत तोड़ो... लेकिन इसके बाद भी तोड़े गए बेर को ब्लैक बेरी कहते हैं

    ReplyDelete
  12. हमारे पास आजकल ब्लूमबर्ग पर लोगिन का बायो मेट्रिक यूनिट आया है बिलकुल बिंदास दीखता है. बस एक ब्लैकबेरी भी हो जाय तो कहीं जाने के बाद एक जेब से ये यूनिट और दुसरे से ब्लैकबेरी निकाल कर रखा जाय :) वैसे गुरुघंटाल को फ़ोन मिला के कहेंगे क्या?

    ReplyDelete
  13. Rajiya fansi ho ya na fasi ........... but aap blogger's ke beech fas gaye.... ye adbhut reporter aapko mila kaha :-)

    ReplyDelete

My Blog List