1/7/09

ऐसी ही होती हैं बेटियां

ऐसी ही होती हैं बेटियां

फ्राइडे को टीवी के प्राइम टाइम पर यूं ही चैनलों के बीच टहल रहा था. टॉप चैनल्स पर टॉप क्लास के सीरियल्स और रियलिटी शोज कहीं बालिका वधू, कहीं कहीं जुनून, कहीं इंडियन आइडल तो कहीं एक खिलाड़ी एक हसीना, किसी चैनल पर वायस आफ इंडिया चल रहा था, किसी पर सारेगामापा की तरंगें थीं, तो कहीं बिग बॉस का जलवा. प्राइम टाइम में सभी चैनल्स अपना बेस्ट झोंक देते हैं. इसलिए इन शो की टाइमिंग एक होती है या उनमें ओवरलैपिंग होती. एक ही समय में उन सभी शोज को इंज्वॉय करना अपने में चुनौती है. इसमें महारत या तो मुझे हासिल है या मेरी छोटी बेटी को. मेरी बेटी तो रोज ही परिवार की नजरें बचा कर रिमोट को चैनल्स पर एक-दो बार भांज देती है. हां, मैं यह काम सिर्फ फ्राइडे को ही कर पाता हूं क्योंकि उस दिन मेरा संडे होता है यानी वीकिली ऑफ। सो आफ के दिन प्राइम टाइम में एक चैनल पर रियलिटी शो में टॉप contestant चार लड़कियों को देख रुक गया। एक अच्छी सी लड़की अच्छा सा गाना गा रही थी. वह मध्य प्रदेश के छोटे शहर रीवां से थी. उसने गजब के confidence के साथ कहा, टैलेंट है तो फर्क नही पड़ता कि वह छोटे शहर से है या बड़े. दूसरी टॉप contestant यूपी के फैजाबाद से थी. उसने भी बड़े गर्व से कहा, रियलिटी शो में इस बार लड़की ही होगी चैंपियन, व्हाई शुड ब्वाय हैव आल द फन? मजा आ गया, लगा कि आजकल ऐसी ही होती हैं बेटियां. कभी तितलियों सी, कभी नटखट गुडिय़ों सी, कभी छुईमुई की पत्तियों सी तो कभी शैतान दोस्त और कभी गंभीर स्त्रियों सी लगती हैं बेटियां। परिवार का स्पंदन और रिश्तों का बंधन होती हैं बेटियां। मुझे न जाने क्यों अच्छी लगती हैं बेटियां। लोगों को बोझ लगती होंगी, मुझे तो भीनी- भीनी सुगंध सी लगती हैं बेटियां।

9 comments:

  1. swagtam....
    aap bhi blogchee huye..
    rojana update karen...
    Word Verification hataiye''

    ReplyDelete
  2. pranam, wah-wah masha allah...kya baat hai...bahut badhia....lekin 'beto' k baare me bhi socha kariye.....

    ReplyDelete
  3. Dil ko choo liya aapne, meri taraf se aapke liye.......

    Apne babul ke ghar ki chidiyaan hain
    Door kahin unka thikaana hai
    Phir bhi woh chehchahati rehti hain
    Phool khusiyun ke khillati rehti hain
    Maan ki aankhon ke roshni hai
    Woh baap ke dil ka chain hai
    Behan beti ho maan ho ya biwi ho
    Yeh sirf naam hi badli hai
    asal main ye betiyaan hi hoti hain


    kunal
    dehradun

    ReplyDelete
  4. Dil ko choo liya aapne, meri taraf se aapke liye.......

    Apne babul ke ghar ki chidiyaan hain
    Door kahin unka thikaana hai
    Phir bhi woh chehchahati rehti hain
    Phool khusiyun ke khillati rehti hain
    Maan ki aankhon ke roshni hai
    Woh baap ke dil ka chain hai
    Behan beti ho maan ho ya biwi ho
    Yeh sirf naam hi badli hai
    asal main ye betiyaan hi hoti hain


    kunal
    dehradun

    ReplyDelete
  5. कभी तितलियों सी, कभी नटखट गुडिय़ों सी, कभी छुईमुई की पत्तियों सी तो कभी शैतान दोस्त और कभी गंभीर स्त्रियों सी लगती हैं बेटियां। परिवार का स्पंदन और रिश्तों का बंधन होती हैं बेटियां। मुझे न जाने क्यों अच्छी लगती हैं बेटियां। लोगों को बोझ लगती होंगी, मुझे तो भीनी- भीनी सुगंध सी लगती हैं बेटियां।
    बहुत अच्छे लगे भाव आपके. स्वागत ब्लॉग परिवार और मेरे ब्लॉग पर भी. (gandhivichar.blogspot.com)

    ReplyDelete
  6. Apki har baat me mujhe ek seekh najar aati hai. Apse Jindgi ko dekhne ka khushi wala najariya aapse sikh raha hun..

    ReplyDelete
  7. Aapki rachna padne ka avsar mila, aapke bhavoan mein vartmaan samay ki peeda aur khushi dono hi abhivyakt hain. Is rachna ke bahane anye rachnaon ko bhi padne ka avsar mila. Sukhad ehsaa hua, aapki rachnaoan mein kahin-kahin sidhi-saadi baat hai to kahin waqt ka chubhkila ehsaas. Apni rachnadharmita ko yuin hi vistaar dein. Meri kavitaaon ko padne ke liye drharisharora.blogspot.com par jhaank sakte hain. Agar man ho to pratikriya bhi dein.
    Jaldi hi 'mediavimarsh' se blog par media aur samaaj sambandhi rachnaayein prakaashit hongi. Aapse anurodh hai ki neeche likhe vishyoan mein se kuchh vishyoan par apne lekh bhejein.
    1. media aur samaj
    2. media ki lakshamrekha
    3. patrakaarita ab moolyoan se nhin money se chalti hai.
    Apne mitroan se bhi is vishay mein anurodh karein.
    Rachnayein dr_harisharora@yahoo.com, drharisharora@gmail.com par bhejein.
    Dhanyewaad,
    Dr. Harish Arora
    09968723222, 09811687144

    ReplyDelete
  8. Aapki rachna padne ka avsar mila, aapke bhavoan mein vartmaan samay ki peeda aur khushi dono hi abhivyakt hain. Is rachna ke bahane anye rachnaon ko bhi padne ka avsar mila. Sukhad ehsaa hua, aapki rachnaoan mein kahin-kahin sidhi-saadi baat hai to kahin waqt ka chubhkila ehsaas. Apni rachnadharmita ko yuin hi vistaar dein. Meri kavitaaon ko padne ke liye drharisharora.blogspot.com par jhaank sakte hain. Agar man ho to pratikriya bhi dein.
    Jaldi hi 'mediavimarsh' se blog par media aur samaaj sambandhi rachnaayein prakaashit hongi. Aapse anurodh hai ki neeche likhe vishyoan mein se kuchh vishyoan par apne lekh bhejein.
    1. media aur samaj
    2. media ki lakshamrekha
    3. patrakaarita ab moolyoan se nhin money se chalti hai.
    Apne mitroan se bhi is vishay mein anurodh karein.
    Rachnayein dr_harisharora@yahoo.com, drharisharora@gmail.com par bhejein.
    Dhanyewaad,
    Dr. Harish Arora
    09968723222, 09811687144

    ReplyDelete
  9. sir appney itna sunder likha hai mujhey apney papaji kee yad aa gayee.ladhkiyo kay liye itnee sunder bhawnaye ek pita kee hee ho saktee hai varna beti kay atireekt anya sabhi roopo may ladhkiyo ko samaj kee kathorata ka samna karna padta.परिवार का स्पंदन और रिश्तों का बंधन होती हैं
    बेटियां। मुझे न जाने क्यों अच्छी लगती हैं बेटियां। लोगों को बोझ लगती होंगी, मुझे तो भीनी- भीनी सुगंध सी लगती हैं बेटियां।
    in shabdo kay madhyam say appnay nishcay hi betiyo ko bahut samman diya hai .dhanyavad

    ReplyDelete

My Blog List