5/29/16

जवान होता एक बूढ़ा घर..

मेरा ननिहाल।मिर्जापुर का यह घ्रर बूढ़ा होकर भी जवान है। काेई ढाई सौ साल पुराना। इसका ऊपरी कलेवर बदलता रहता लेकिन दिल वही पुराना वाला।  इस घर के आगे एक नीम का पेड़ हुुआ करता था। वो उम्र पूरी कर चला गया तो उसके बाद एक गुलमोहर  लहलहाता था इस घर के सामने। पीछे एक पोखरी थी ...भटवा की पोखरी..वोभी सूख गई।  पहले बाहर वाला गेट नहीं था, सिर्फ चबूतरा था।  ऊपर टिन शेड।                                                                                                    बगल में एक कूआं था। कूओं अब भी है लेकिन उसमें पानी नहीं। धमाचौकड़ी होती। थी। दलगिरिया की माई..बिल्लाड़ो बो, किलरू साव...बिस्सू ...सेठ,  गोबरहिया गच्च..भटवा की पोखरी,पातालतोड़ कुआं ...उफ..! कितने किस्से,कितनी यादें । पहले गर्मी की छुट्टी की मतलब होता था ननिहाल और ननिहाल का मतलब मिर्जापुर, मतलब मस्ती। रोज गंगा नहाते थे। गंगाजल पीकर आते फिर चार आने की शुद्ध घी की जलेबी खाते। अब न गंगाजी वैसी रहीं न जलेबी। जाने कहां गए वो लोग जो पा..लागी और राम भज...का जवाब जियत रहा बच्चा.. से देते थे।  वो दिन भी क्या दिन थे।

6 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, " मिट्टी के घड़े - ब्लॉग बुलेटिन " , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. वो दिन भी क्या दिन थे...

    ReplyDelete
  3. नानी का घर तो जैसे छुट्टियों बिताने के लिए, मौज मस्ती के लिए बने होते।
    सच बहुत याद आती है बचपन के दिनों की। . .. अब तो हमारे बच्चे बड़ी मुश्किल से तैयार होते हैं नानी के घर जाने को। . कुछ कहो तो कहते हैं खुद ही चले जावो। . बस कंप्यूटर पर गेम और टीवी पर कार्टून।। पढ़ने को बोलो तो नानी याद दिला देते हैं

    अच्छी याद दिलाती पोस्ट

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद कविताजी। गैजेट्स की दुनिया में रिश्तों की गरमी ठंडी पड़ती जा रही है। भीड़ बढ़ रही और दोस्त कम हाेते जा रहे।

      Delete
  4. The summer vacations used to be the most awaited time throughout the whole school session. The most relaxing time in one's life as well. After reading your blog I started collecting memories of my childhood as well. They are nothing in front of this era where the present generation spends time with mobiles & tabs.


    ReplyDelete
  5. The summer vacations used to be the most awaited time throughout the whole school session. The most relaxing time in one's life as well. After reading your blog I started collecting memories of my childhood as well. They are nothing in front of this era where the present generation spends time with mobiles & tabs.


    ReplyDelete

My Blog List